Funny Hindi Kahani – Best Short Story

सास बहू की कहानी

HIndi Kahani
HIndi Kahani

ये एक जग प्रसिद्ध बात  है कि सभी बहु को अपनी सास से हमेशा परेशानी रहती है।

एक दिन सभी बहुएं इकट्ठी होकर ये  फैसला किया कि, वे सब अपनी सास से कभी झगड़ा नहीं करेंगी  और माफ़ी माँग कर कहेंगी, उन्होंने जो भी किया उनसे वो गलती से हुआ।

एक हफ्ते बाद सभी बहुओं ने एक पिकनिक जाने का कार्यक्रम बनाया, जिसमें पूरे परिवार के साथ अपनी अपनी सास को भी ले गयी।

सारी सास को एक ही बस में बैठाया गया जो सबसे आगे चली थी पर रास्ते में उनकी बस का एक्सिडेंट हो गया। और सभी सास मर गयी, सारी बहुएं जोर-जोर से बिलख-बिलख कर रो रही थी।

लेकिन एक बहु को शायद कुछ ज्यादा ही दुःख हुआ वो जमीन पर हाथ पटक-पटक कर रो रही थी। सभी उसे सांत्वना देकर कह रहे थे, कम से कम तुम्हारी सास बिना किसी चिंता के मरी है। तुम्हारा उससे कोई झगड़ा नहीं था पर वो अभी भी जोर-जोर से चिल्ला रही थी।

जब वो बार-बार बोलने पर चुप नहीं हो रही थी तो एक औरत ने उसे पूछा, “तुम इतना क्यों चिल्ला रही हो, क्या तुम्हारी सास ज्यादा खास थी?”

उस औरत ने अपने आप को थोड़ा संभाला और सिसकते हुए कहा, “नहीं, उनसे बस छूट गयी है।”

 

बीमारी का सस्ता इलाज

एक आदमी डॉक्टर के पास गया और बोला

आदमी: डॉक्टर साहब, मैं बहुत ही ज्यादा परेशान हूँ, जब भी मैं बिस्तर पर लेट कर सोने की कोशिस करता हूँ  तो मुझे लगता है की बिस्तर के नीचे कोई है। जब मैं बिस्तर के नीचे देखने जाता हूँ तो मुझे ऐसा लगता है ऊपर कोई है। मैं रात भर नीचे, ऊपर, नीचे, ऊपर यही करता रहता हूँ, और सो नहीं पता हूँ । मेरा अच्छा सा इलाज़ कीजिये नहीं तो ऐसे मैं पागल हो जाऊंगा।

डॉक्टर: तुम्हारा इलाज़ लगभग एक साल तक चलेगा, तुम्हे महीने में 2 बार आना पड़ेगा, और अगर तुमने मेरे बताये अनुसार इलाज़ करबाया तो तुम बिलकुल ठीक हो जाओगे।

आदमी: डॉक्टर साहब, पर आपकी फीस क्या होगी?

डॉक्टर: 200 रुपये एक बार आने के और 200 रुपये हर महीने की दवाई के।

आदमी थोड़ा गरीब था, इसीलिए फिर आऊंगा कह कर चला गया।

एक महीने बाद वही आदमी सड़क पर घूमते हुए मिला तो डॉक्टर ने उस से पूछा,” क्यों भाई, क्या हुआ तुम अपना इलाज़ करवाने क्यों नहीं आये?”

आदमी: “डॉक्टर साहब मेरे इलाज के आप  चार सौ रूपए  मांग रहे थे, वह मेरे पडोसी ने सिर्फ 40  रूपए में कर दिया”।

डॉक्टर ने हैरानी से पूछा: वो कैसे?

आदमी: “वो एक बढई है, उसने मेरे पलंग के चारो पाँव सिर्फ 10  रुपये प्रति पाँव के हिसाब से काट दिए”।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *